इरेडा ने रिटेल प्रभाग का शुभारंभ किया

पीएम-कुसुम, रूफटॉप सोलर और अन्य बी 2 सी सेगमेंट लक्ष्य निर्धारित किए

इरेडा ने रिटेल प्रभाग का शुभारंभ किया

नई दिल्ली-भारतीय अक्षय ऊर्जा विकास एजेंसी लिमिटेड (आईआरईडीए) ने अपने रिटेल प्रभाग का शुभारंभ किया है, जो पीएम-कुसुम योजना, रूफटॉप सोलर और अन्य बिजनेस-टू-कंज्यूमर (बी 2 सी) क्षेत्रों में उधारकर्ताओं को ऋण प्रदान करने पर विशेष ध्यान देगा। रणनीतिक प्रभाग 5 दिसंबर, 2023 से संचारित हो रहा है। यह घोषणा इरेडा के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक प्रदीप कुमार दास ने 7 दिसंबर 2023 को दुबई में सीओपी 28 के तहत  सीईईडब्ल्यू और सीआईआई द्वारा आयोजित "वैश्विक सतत विकास और संसाधनों के प्रशासन के लिए कार्यात्मक  समाधान" पर नेताओं की वार्ता के दौरान की है।

A group of men sitting in a roomDescription automatically generated 

शुभारंभ के तुरंत पश्चात, आईआरईडीए के रिटेल डिवीजन ने कुसुम-बी के तहत 58 करोड़ रुपये की राशि का अपना पहला ऋण मंजूर किया, जो नए क्षेत्रों में पसंदीदा ऋणप्रदाता के रूप में उभरने के आईआरईडीए के समर्पण को दिखाता है, साथ ही अन्य नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्रों में इसकी सफलता को दर्शाता है। आईआरईडीए के सीएमडी ने अक्षय ऊर्जा (आरई) बॉन्ड में घरेलू पेंशन और बीमा फंडों के लिए 1% -2% एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) आवंटन का सुझाव देकर टिकाऊ निवेश की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम का भी प्रस्ताव दिया। इस रणनीतिक कदम का उद्देश्य बॉन्ड बाजारों को बड़ा करना, वैश्विक और स्थानीय निवेश में वृद्धि को बढ़ावा देना है।

A group of people sitting at tables in front of a large screenDescription automatically generated

इसके अलावा, सीएमडी ने दुबई में सीओपी 28 में आज दो पैनल चर्चाओं में अपने विचार साझा किए। एशियाई विकास बैंक द्वारा आयोजित पहली चर्चा, "भारत के ऊर्जा संक्रमण लक्ष्यों को पूरा करने के लिए जलवायु वित्त को बढ़ाने" पर केंद्रित थी। दूसरा, अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन और सीआईआई द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित, "उभरते बाजारों और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में वित्तपोषण उद्योग संक्रमण" पर था।

"भारत के ऊर्जा संक्रमण लक्ष्यों को पूरा करने के लिए जलवायु वित्त को बढ़ाना" पर पैनल चर्चा में, आईआरईडीए के सीएमडी ने नवीकरणीय ऊर्जा और हरित प्रौद्योगिकी आधारित निवेश के पूरे स्पेक्ट्रम को कवर करते हुए एक व्यापक ग्रीन टैक्सोनॉमी स्थापित करने की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि इससे नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में पारदर्शिता बढ़ेगी और स्थिरता के प्रति प्रतिबद्धता के साथ निवेशकों को आकर्षित किया जा सकेगा।

"उभरते बाजारों और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में वित्तपोषण उद्योग संक्रमण" पर सत्र के दौरान, आईआरईडीए के सीएमडी ने बढ़ती ऊर्जा मांग को पूरा करने के लिए कम उत्सर्जन वाले समाधानों को खोजने और वित्तपोषित करने के महत्व को रेखांकित किया। विकसित हो रहे हरित ऊर्जा परिदृश्य को स्वीकार करते हुए श्री दास ने पारम्परिक और नए तथा उभरते दोनों क्षेत्रों में अद्वितीय समाधानों की आवश्यकता पर बल दिया। उभरती और नई नवीकरणीय ऊर्जा प्रौद्योगिकियों के लिए संभावित समाधानों को संबोधित करते हुए, श्री दास ने जलवायु निधि का लाभ उठाने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला। उन्होंने जोखिम-समायोजित रिटर्न में सुधार और बड़े पैमाने पर निजी पूंजी जुटाने के लिए कम लागत वाले वित्त पोषण की वकालत की। उन्होंने तर्क दिया कि यह दृष्टिकोण कम लागत वाले फंडों को सक्षम करेगा, गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) के लिए मार्जिन को समायोजित करेगा, और बढ़ती ब्याज दरों के प्रभाव को कम करेगा।

Latest News

 प्रधानमंत्री ने 300 मेगावाट भुज-II सौर ऊर्जा परियोजना की रखी आधारशिला प्रधानमंत्री ने 300 मेगावाट भुज-II सौर ऊर्जा परियोजना की रखी आधारशिला
राजकोट-प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज गुजरात के राजकोट में 48,100 करोड़ रुपये से भी अधिक की कई विकास परियोजनाओं को...
चौबीस घंटे नवीकरणीय ऊर्जा प्रदान करने के लिए बैटरी ऊर्जा भंडारण प्रणाली की तैनाती तंत्र को अंतिम रूप
देश का सबसे लंबा केबल-आधारित पुल राष्ट्र को समर्पित
एसईसीआई ने भारत की सबसे बड़ी सौर-बैटरी परियोजना को परिचालित किया
प्रधानमंत्री ने 1600 मेगावाट के सुपर थर्मल पॉवर स्टेशन स्टेज–वन को राष्ट्र को समर्पित किया
एनटीपीसी नवीकरणीय रिन्यूएबल एनर्जी लिमिटेड की पहली सौर परियोजना का परिचालन कार्य प्रारंभ हुआ
ग्रिड-इंडिया ने जीओ15 बैठक की मेजबानी की
एसजेवीएन ने उत्तर प्रदेश में 50 मेगावाट के गुजराई सौर ऊर्जा स्टेशन चालू किया
एनटीपीसी के 1,600 मेगावाट के लारा सुपर थर्मल पावर स्टेशन के प्रथम-चरण का होगा शुभारम्भ
प्रधानमंत्री करेंगे फर्स्ट माइल कनेक्टिविटी परियोजनाओं का उद्घाटन