सर्वाधिक ऋण स्वीकृति और ऋण संवितरण स्तर हासिल करने का इरेडा ने बनाया नया रिकॉर्ड

सर्वाधिक ऋण स्वीकृति और ऋण संवितरण स्तर हासिल करने का इरेडा ने बनाया नया रिकॉर्ड

नई दिल्ली-देश की सबसे बड़ी विशिष्ट-क्षेत्र आधारित हरित वित्तीय एनबीएफसी, भारतीय नवीकरणीय ऊर्जा विकास एजेंसी लिमिटेड (इरेडा) ने वित्त वर्ष 2023-24 के लिए अब तक का सर्वाधिक ऋण स्वीकृति और ऋण संवितरण स्तर हासिल किया है। कंपनी ने वित्त वर्ष के दौरान 37,354 करोड़ रुपये के ऋण स्वीकृत किये हैं और 25,089 करोड़ रुपये के ऋण वितरित किये हैं। इससे ऋण पुस्तिका में 26.71% की उल्लेखनीय वृद्धि हुई है, जो अब 59,650 करोड़ रुपये तक पहुँच गयी है।

31 मार्च, 2024 को समाप्त तिमाही और वर्ष के लिए कारोबार प्रदर्शन (अनंतिम), जो ऑडिट के अधीन है, इस प्रकार है:

2023-24 को समाप्त तिमाही/वर्ष के लिए कारोबार प्रदर्शन (अनंतिम)

(करोड़ रुपये में)

 

विवरण

चौथी तिमाही की समाप्ति

31 मार्च को समाप्त वर्ष के लिए

विकास (%)

2023-24

2022-23

2023-24

2022-23

चौथी तिमाही के लिए

वर्ष समाप्ति

ऋण स्वीकृत

23,796

11,797

37,354

32,587

101.71%

14.63%

ऋण संवितरित

12,869

11,291

25,089

21,639

13.98%

15.94%

31 मार्च 2024 तक ऋण पुस्तिका बकाया

 

 

59,650

 

47,076

 

 

26.71%

 

कंपनी के प्रदर्शन पर टिप्पणी करते हुए, इरेडा के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक प्रदीप कुमार दास ने कहा: "वित्त वर्ष 2023-24 के लिए इरेडा की रिकॉर्ड ऋण स्वीकृतियां और ऋण संवितरण देश में नवीकरणीय ऊर्जा क्रांति को आगे बढ़ाने के लिए हमारी अटूट प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है। यह उपलब्धि, हमारे हितधारकों, व्यापार-साझेदारों और निवेशकों के अमूल्य समर्थन के बिना संभव नहीं हो पाती। हम भारत सरकार के नवीकरणीय ऊर्जा लक्ष्यों में महत्वपूर्ण योगदान देकर खुश हैं और आने वाले वर्षों में अपने प्रभाव को और बढ़ाने के लिए तत्पर हैं।''

Latest News

खनन और खनिज प्रसंस्करण में अनुसंधान एवं नवाचार प्रोत्‍साहन के लिए खनन स्टार्ट-अप वेबिनार आयोजित खनन और खनिज प्रसंस्करण में अनुसंधान एवं नवाचार प्रोत्‍साहन के लिए खनन स्टार्ट-अप वेबिनार आयोजित
नई दिल्ली-भारत सरकार के खान मंत्रालय ने खनन और खनिज प्रसंस्करण में अनुसंधान एवं नवाचार को बढ़ावा देने के अवसरों...
ग्रीष्मकालीन बिजली की मांग को पूरा करने में सहायता के लिए सरकार ने गैस आधारित बिजली संयंत्रों को परिचालित करने के उपाय किए
इरेडा ने विरासत का उत्सव मनाया
केएबीआईएल और सीएसआईआर-आईएमएमटी ने महत्वपूर्ण खनिजों के शोध के लिए किया समझौता
सरकार ने राष्ट्रीय हरित हाइड्रोजन पहल के अंतर्गत अनुसंधान और विकास प्रस्ताव प्रस्तुत करने की समय सीमा बढ़ाई
आरईसीपीडीसीएल ने अंतरराज्यीय विद्युत पारेषण परियोजना के लिए एसपीवी सौंपे
भारतीय तटरक्षक ने बंगाल की खाड़ी में नौ घायल मछुआरों को बचाया
समुद्री डकैती विरोधी अभियानों के लिए आईएनएस शारदा को ऑन द स्पॉट यूनिट प्रशस्ति पत्र
पनबिजली क्षमता आज के 42 गीगावॉट से बढ़कर 2031-32 तक 67 गीगावॉट हो जाएगी
एसजेवीएन को 15वें सीआईडीसी विश्वकर्मा पुरस्कार 2024 से सम्मानित किया गया