ताप विद्युत संयंत्र में अब तक का सर्वाधिक कोयला भंडार उपलब्ध

ताप विद्युत संयंत्र में अब तक का सर्वाधिक कोयला भंडार उपलब्ध

नई दिल्ली-कोयला मंत्रालय (एमओसी) विद्युत संयंत्रों को कोयले की निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए चौबीसों घंटे अथक प्रयास कर रहा है। उत्पादन में वृद्धि, रसद के कुशल प्रबंधन और विभिन्न एजेंसियों के बीच समन्वय के परिणामस्वरूप, कोयला मंत्रालय ने विद्युत संयंत्रों में कोयले का अब तक का सर्वाधिक भंडारण सुनिश्चित किया है। इस सक्रिय पहल का उद्देश्य बिजली की अधिक मांग की इस अवधि के दौरान पूरे देश के नागरिकों को निर्बाध बिजली सुनिश्चित करना है। बिजली की अत्यधिक उच्च मांग के बावजूद, विद्युत संयंत्रों में कोयले का पर्याप्त भंडार है। यह भंडार 16 जून, 2024 तक 45 मिलियन टन (एमटी) से अधिक था, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में ~ 31.71 प्रतिशत अधिक है उस समय यह 34.25 मीट्रिक टन था।

इस वित्त वर्ष में कोयला आधारित बिजली की मांग में पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में 7.30 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। यह कोयले की अब तक की सर्वाधिक मांग है।

16.06.24 तक, संचयी कोयला उत्पादन 207.48 मीट्रिक टन रहा, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 9.27 प्रतिशत ​​की वृद्धि दर्शाता है, जो 189.87 मीट्रिक टन था। कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) ने 160.25 मीट्रिक टन कोयला उत्पादन दर्ज किया है, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 7.28 प्रतिशत अधिक है, जो 149.38 मीट्रिक टन था। इसी तरह, कैप्टिव और वाणिज्यिक खदानों से कोयला उत्पादन 33 मीट्रिक टन तक पहुंच गया, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 27 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है।

16 जून, 2024 तक कुल कोयला प्रेषण 220.31 मीट्रिक टन रहा, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 7.65 प्रतिशत अधिक है। पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में यह 204.65 मीट्रिक टन रहा। कोल इंडिया लिमिटेड ने 166.58 मीट्रिक टन प्रेषण दर्ज किया, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 4 प्रतिशत अधिक है। यह 158.91 मीट्रिक टन रहा। कैप्टिव और वाणिज्यिक खदानों से कोयला प्रेषण 30 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 39.45 मीट्रिक टन दर्ज किया गया। बिजली क्षेत्र को प्रेषण 180.35 मीट्रिक टन रहा, जो पिछले वर्ष के 170.61 मीट्रिक टन की तुलना में 5.71 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है।

इस उपलब्धि का श्रेय कोयले की सुचारू और पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने वाली कुशल रसद व्यवस्था को जाता है। विद्युत मंत्रालय, कोयला मंत्रालय, रेल मंत्रालय और बिजली उत्पादन कंपनियों के प्रतिनिधियों वाले उप-समूह ने कुशल आपूर्ति श्रृंखला बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

देश में कुल कोयला भंडारण (खान, पारगमन, बिजली संयंत्र) 144.68 मीट्रिक टन से अधिक है, जो बिजली क्षेत्र को पर्याप्त कोयला आपूर्ति सुनिश्चित करता है। रेल मंत्रालय ने रेलवे रेक की दैनिक उपलब्धता में 10 प्रतिशत की औसत वृद्धि सुनिश्चित की है, 16 जून 2024 तक प्रतिदिन औसतन 428.40 रेक आपूर्ति की गई है। तटीय शिपिंग के माध्यम से निकासी में भी उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। परंपरागत रूप से, कोयले का परिवहन केवल पारादीप बंदरगाह के माध्यम से किया जाता था, लेकिन अब, कोयला रसद नीति के अनुसार उचित समन्वय के तहत, धामरा और गंगावरम बंदरगाहों के माध्यम से भी कोयले की निकासी की जा रही है। रेलवे नेटवर्क में बुनियादी ढांचे के विस्तार ने सोन नगर से दादरी तक रेक की आवाजाही में उल्लेखनीय सुधार किया है, जिसके परिणामस्वरूप टर्नअराउंड समय में 100 प्रतिशत से अधिक सुधार हुआ है।

कोयला मंत्रालय, कोयला उत्पादन और परिवहन को बढ़ाने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है, ताकि बिजली संयंत्रों के पास बिजली की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए पर्याप्त भंडार हो। इन समन्वित प्रयासों ने उच्च बिजली मांग को पूरा करने के लिए स्थिर और कुशल कोयला आपूर्ति बनाए रखने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

Latest News

बाईमेटेलिक नाइफ प्रणालियां पानी के विभाजन के लिए डोप की गई प्रणालियों से बेहतर बाईमेटेलिक नाइफ प्रणालियां पानी के विभाजन के लिए डोप की गई प्रणालियों से बेहतर
नयी दिल्ली-एक नए अध्ययन के अनुसार एक द्विधातु (बाईमेटेलिक) निकल आयरन परतदार डबल हाइड्रॉक्साइड प्रणाली पानी के विभाजन के माध्यम...
नेट-जीरो लक्ष्य हासिल करने के लिए भारत के लिए ई-मोबिलिटी आरएंडडी रोडमैप पर रिपोर्ट जारी
बिजली कर्मियों के लिए वित्त मंत्री से पुरानी पेंशन की मांग
उत्तराखंड के लिए शहरी विकास योजनाओं और विद्युत क्षेत्र के परिदृश्य की समीक्षा
कोयला मंत्रालय द्वारा तीन कोयला खदानों के लिए समझौतों पर हस्ताक्षर
46 गाड़ियों में लगाए गए सामान्य श्रेणी के 92 कोच; 22 दूसरी गाड़ियों के भी विस्तार की योजना
छत्तीसगढ़ सरकार से जल विद्युत परियोजनाओं और पंप भंडारण परियोजनाओं पर कोई उपकर नहीं लगाने का अनुरोध
फ्लाई ऐश के निपटान के लिए थर्मल पावर प्लांटों को 19 कोयला खदानें आवंटित की गईं
अरुणाचल प्रदेश में बिजली क्षेत्र की योजनाओं और परियोजनाओं की समीक्षा
कोयला खदानों की वाणिज्यिक नीलामी के 10वें दौर के लिए बोली-पूर्व बैठक आयोजित की