कैप्टिव एवं वाणिज्यिक कोयला खदानों से कोयला उत्पादन में 35 प्रतिशत की वृद्धि

कैप्टिव एवं वाणिज्यिक कोयला खदानों से कोयला उत्पादन में 35 प्रतिशत की वृद्धि

नई दिल्ली-कोयला मंत्रालय ने चालू वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही यानी 1 अप्रैल 2024 से लेकर 30 जून 2024 की अवधि में पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में कैप्टिव एवं वाणिज्यिक कोयला ब्लॉकों से कोयला उत्पादन और ढुलाई में उल्लेखनीय वृद्धि हासिल की है।

कोयले का उत्पादन वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 35 प्रतिशत बढ़कर वित्तीय वर्ष 2024 की पहली तिमाही में 29.26 एमटी से बढ़कर वित्तीय वर्ष 2025 की पहली तिमाही में 39.53 एमटी हो गया है। इसी तरह, ढुलाई में भी वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 34.25 प्रतिशत की वृद्धि हुई है और यह वित्तीय वर्ष 2024 की पहली तिमाही में 34.07 एमटी से बढ़कर वित्तीय वर्ष 2025 की पहली तिमाही में 45.68 एमटी हो गई है। कोयले के उत्पादन एवं वितरण की स्थिति इस प्रकार है:

कोयले का उत्पादन:

  • विद्युत क्षेत्र : विद्युत क्षेत्र के उत्पादन में उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई है, जो पिछले वर्ष की पहली तिमाही में 25.02 मिलियन टन (एमटी) से बढ़कर इस वर्ष की पहली तिमाही में 30.16 मीट्रिक टन हो गई है और यह वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 20.5 प्रतिशत की वृद्धि है।
  • गैर-विनियमित क्षेत्र (एनआरएस): एनआरएस से होने वाले उत्पादन में उल्लेखनीय बढ़ोतरी हुई है, जो पिछले वर्ष की पहली तिमाही में 1.44 एमटी से बढ़कर इस वर्ष की पहली तिमाही में 2.55 एमटी हो गया है और यह वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 77 प्रतिशत की वृद्धि है।
  • कोयले की बिक्री: कोयला खदानों की बिक्री से उत्पादन में प्रभावशाली वृद्धि हुई है, जो पिछले वर्ष की पहली तिमाही में 2.80 एमटी से बढ़कर इस वर्ष की पहली तिमाही में 6.81 एमटी हो गया है और यह वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 143 प्रतिशत की वृद्धि है।

कोयले की ढुलाई:

  • विद्युत क्षेत्र: विद्युत क्षेत्र को होने वाली ढुलाई पिछले वर्ष की पहली तिमाही में 28.90 एमटी से बढ़कर इस वर्ष की पहली तिमाही में 35.65 एमटी हो गई और यह वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 23.3 प्रतिशत की वृद्धि है।
  • गैर-विनियमित क्षेत्र: एनआरएस को होने वाली ढुलाई पिछले वर्ष की पहली तिमाही में 1.66 एमटी से बढ़कर इस वर्ष की पहली तिमाही में 2.38 एमटी हो गई, जो वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 43.4 प्रतिशत की वृद्धि है।
  • कोयले की बिक्री: कोयले की बिक्री के लिए ढुलाई पिछले वर्ष की पहली तिमाही में 3.51 एमटी से बढ़कर इस वर्ष की पहली तिमाही में 7.64 एमटी हो गई, जो वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 117.67 प्रतिशत की प्रभावशाली वृद्धि है।

कोयला मंत्रालय कोयला कंपनियों और उद्योग जगत के भागीदारों सहित सभी हितधारकों के महत्वपूर्ण समर्थन तथा अथक प्रयासों की सराहना करता है। कोयला मंत्रालय कोयला ब्लॉक के सभी आवंटियों को चुनौतियों से निपटने और उनके संचालन को अधिकतम स्तर पर ले जाने में सहायता करने के प्रति दृढ़ता से प्रतिबद्ध है। मंत्रालय का प्राथमिक लक्ष्य कोयला उत्पादन को उल्लेखनीय रूप से बढ़ावा देना है ताकि हमारे राष्ट्र की बढ़ती ऊर्जा संबंधी जरूरतों को पूरा करने हेतु निरंतर एवं भरोसेमंद आपूर्ति सुनिश्चित हो सके। सहयोगात्मक प्रयासों और लक्षित समर्थन के जरिए, मंत्रालय का लक्ष्य कोयला क्षेत्र में दक्षता, स्थिरता और उत्पादन को बढ़ाना है।

Latest News

बाईमेटेलिक नाइफ प्रणालियां पानी के विभाजन के लिए डोप की गई प्रणालियों से बेहतर बाईमेटेलिक नाइफ प्रणालियां पानी के विभाजन के लिए डोप की गई प्रणालियों से बेहतर
नयी दिल्ली-एक नए अध्ययन के अनुसार एक द्विधातु (बाईमेटेलिक) निकल आयरन परतदार डबल हाइड्रॉक्साइड प्रणाली पानी के विभाजन के माध्यम...
नेट-जीरो लक्ष्य हासिल करने के लिए भारत के लिए ई-मोबिलिटी आरएंडडी रोडमैप पर रिपोर्ट जारी
बिजली कर्मियों के लिए वित्त मंत्री से पुरानी पेंशन की मांग
उत्तराखंड के लिए शहरी विकास योजनाओं और विद्युत क्षेत्र के परिदृश्य की समीक्षा
कोयला मंत्रालय द्वारा तीन कोयला खदानों के लिए समझौतों पर हस्ताक्षर
46 गाड़ियों में लगाए गए सामान्य श्रेणी के 92 कोच; 22 दूसरी गाड़ियों के भी विस्तार की योजना
छत्तीसगढ़ सरकार से जल विद्युत परियोजनाओं और पंप भंडारण परियोजनाओं पर कोई उपकर नहीं लगाने का अनुरोध
फ्लाई ऐश के निपटान के लिए थर्मल पावर प्लांटों को 19 कोयला खदानें आवंटित की गईं
अरुणाचल प्रदेश में बिजली क्षेत्र की योजनाओं और परियोजनाओं की समीक्षा
कोयला खदानों की वाणिज्यिक नीलामी के 10वें दौर के लिए बोली-पूर्व बैठक आयोजित की