ग्रिड-इंडिया ने जीओ15 बैठक की मेजबानी की

ग्रिड-इंडिया ने जीओ15 बैठक की मेजबानी की

नई दिल्ली-विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार के अंतर्गत आने वाले ग्रिड कंट्रोलर ऑफ इंडिया ने 22 और 23 फरवरी, 2024 को नई दिल्ली में पावर ग्रिड ऑपरेटर्स एसोसिएशन जीओ15 के गवर्निंग बोर्ड और संचालन बोर्ड की बैठकों की मेजबानी की।  जीओ15, पावर ग्रिड ऑपरेटरों का एक विशाल संघ है जो एक साथ मिलकर विश्व की आधी से ज्यादा विद्युत मांग की आपूर्ति करता है, यह उद्योग जगत के दिग्गजों के बीच उच्च-स्तरीय आदान-प्रदान के लिए समर्पित है और विद्युत प्रणालियों की सुरक्षा, विश्वसनीयता और स्थिरता को प्रभावित करने वाले प्रमुख रणनीतिक एवं तकनीकी मुद्दों का समाधान करने का अवसर प्रदान करता है।

10 वैश्विक संगठनों के 26 उद्योग जगत के दिग्गजों ने नयी दिल्ली में जीओ15 के गवर्निंग बोर्ड और संचालन बोर्ड की बैठकों में हिस्सा लिया। इस बैठक में उपस्थित हुए लोगों में श्री एस. आर. नरसिम्हन, जीओ15 के अध्यक्ष और ग्रिड-इंडिया के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक; महासचिव, जीओ15, डॉ. ब्रूनो मेयर; अध्यक्ष, एसओ-यूपीएस, रूस, श्री फेडोर ओपडची; सीईओ, कैलिफोर्निया आईएसओ, यूएसए, श्री इलियट मेनजर; सीईओ, एमआईएसओ, यूएसए, श्री जॉन बियर; बोर्ड के सदस्य एवं प्रबंध कार्यकारी अधिकारी, टेपको पावर ग्रिड, जापान, श्री काज़ुहिको शीबा; सीईओ, केपीएक्स, दक्षिण कोरिया, श्री डोंग ही जंग और प्रबंध निदेशक, एस्कॉम, दक्षिण अफ्रीका, श्री. सेगोमोको शेपर्स शामिल हैं।

GHCTSdWasAI2u4V

वर्ष 2024 में जीओ15 की 20वीं वर्षगांठ भी है और इस कार्यक्रम को चिह्नित करने के लिए विशेष समारोह का भी आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम ने जीओ15 और उसके सदस्यों की उन यात्रा को दर्शाने का एक अवसर भी प्रदान किया जिसे उन्होंने वैश्विक सहयोग का निर्माण करने की दिशा में की है। श्री एस. आर. नरसिम्हन, जीओ15 के अध्यक्ष और सीएमडी, ग्रिड-इंडिया ने अपने वक्तव्य में कहा कि “ग्रिड-इंडिया का जीओ15 के साथ जुड़ाव इसकी स्थापना के समय से ही रहा है। यह एक मूल्यवान साझेदारी है जिसने वैश्विक ज्ञान पूल तैयार करने, विशेषज्ञता को साझा करने और मजबूत साझेदारी बनाने में सहायता प्रदान की है।”

महासचिव, जीओ15, डॉ. ब्रूनो मेयर ने कहा कि “इस विशेष कार्यक्रम की मेजबानी करने के लिए ग्रिड-इंडिया को बहुत-बहुत धन्यवाद और उन सभी सदस्यों को बधाई जिन्होंने पूरी दुनिया में विद्युत प्रबंधन की अनिश्चितताओं को समाप्त करने में सहायता प्रदान करने के लिए इस अद्भुत पावर-ग्रिड नेटवर्क का निर्माण किया है।”

इस कार्यक्रम में “सतत ग्रिड के लिए ट्रिपल बॉटम लाइन: पर्याप्तता, विश्वसनीयता एवं सामर्थ्य” विषय पर एक पैनल चर्चा भी आयोजित की गई। इस पैनल में श्री अरुण गोयल, सदस्य, केंद्रीय विद्युत नियामक आयोग, भारत; श्री घनश्याम प्रसाद, अध्यक्ष, केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण, भारत; श्री इलियट मेनज़र, सीईओ, कैलिफ़ोर्निया आईएसओ; श्री सेगोमोको शेपर्स, सीईओ, एस्कॉम ग्रिड; श्री जॉन बियर, सीईओ, एमआईएसओ और सुश्री क्लेयर लाजोई-मज़ेन, वैज्ञानिक सलाहकार, आरटीई, फ्रांस भी शामिल हुए।

GHCTSdgb0AAgJN3

दो दिवसीय कार्यक्रम में वैश्विक स्तर के महत्वपूर्ण विषयों को शामिल किया गया, जैसे संसाधन पर्याप्तता, विद्युत प्रणालियों में जोखिम एवं विश्वसनीयता, अंतिम उपभोक्ताओं को प्रभावित करने वाली नई प्रौद्योगिकियां, तालमेल स्थापित करना और एक उज्ज्वल, स्वच्छ और ज्यादा चिरस्थायी ऊर्जा भविष्य की दिशा में एक साझा रोडमैप तैयार करना आदि।

जीओ15 की स्थापना 2004 में इस दृष्टिकोण के साथ हुई कि ट्रांसमिशन ग्रिड और एक लचीला विद्युत प्रणाली ऊर्जा अवस्थांतर के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। जीओ15 एक स्थायी भविष्य का निर्माण करने के लिए द्विपक्षीय एवं बहुपक्षीय अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को बढ़ावा देने की कोशिश करता है। वसुधैव कुटुम्बकम के प्राचीन भारतीय दर्शन को ध्यान में रखते हुए, जीओ15 बैठकों का आयोजन नेटवर्क तैयार करने, वैश्विक विद्युत क्षेत्र की चुनौतियों का सामना करने, विशेषज्ञता को साझा करने और सहयोगी समाधान प्रदान करने लिए एक सामूहिक एवं वैश्विक कोशिश है।

 

Latest News

खनन और खनिज प्रसंस्करण में अनुसंधान एवं नवाचार प्रोत्‍साहन के लिए खनन स्टार्ट-अप वेबिनार आयोजित खनन और खनिज प्रसंस्करण में अनुसंधान एवं नवाचार प्रोत्‍साहन के लिए खनन स्टार्ट-अप वेबिनार आयोजित
नई दिल्ली-भारत सरकार के खान मंत्रालय ने खनन और खनिज प्रसंस्करण में अनुसंधान एवं नवाचार को बढ़ावा देने के अवसरों...
ग्रीष्मकालीन बिजली की मांग को पूरा करने में सहायता के लिए सरकार ने गैस आधारित बिजली संयंत्रों को परिचालित करने के उपाय किए
इरेडा ने विरासत का उत्सव मनाया
केएबीआईएल और सीएसआईआर-आईएमएमटी ने महत्वपूर्ण खनिजों के शोध के लिए किया समझौता
सरकार ने राष्ट्रीय हरित हाइड्रोजन पहल के अंतर्गत अनुसंधान और विकास प्रस्ताव प्रस्तुत करने की समय सीमा बढ़ाई
आरईसीपीडीसीएल ने अंतरराज्यीय विद्युत पारेषण परियोजना के लिए एसपीवी सौंपे
भारतीय तटरक्षक ने बंगाल की खाड़ी में नौ घायल मछुआरों को बचाया
समुद्री डकैती विरोधी अभियानों के लिए आईएनएस शारदा को ऑन द स्पॉट यूनिट प्रशस्ति पत्र
पनबिजली क्षमता आज के 42 गीगावॉट से बढ़कर 2031-32 तक 67 गीगावॉट हो जाएगी
एसजेवीएन को 15वें सीआईडीसी विश्वकर्मा पुरस्कार 2024 से सम्मानित किया गया