देश का सबसे लंबा केबल-आधारित पुल राष्ट्र को समर्पित

देश का सबसे लंबा केबल-आधारित पुल राष्ट्र को समर्पित

द्वारका-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ओखा मुख्य भूमि और बेट द्वारका द्वीप को जोड़ने वाले लगभग 980 करोड़ रुपये की लागत से बने सुदर्शन सेतु को राष्ट्र को समर्पित किया। यह देश का सबसे लंबा लगभग 2.32 किमी लंबा केबल-आधारित पुल है।

सुदर्शन सेतु का निर्माण एक अद्वितीय डिजाइन पर आधारित है, जिसमें दोनों तरफ श्रीमद्भगवद गीता के श्लोकों और भगवान श्री कृष्ण की छवियों से सुसज्जित एक फुटपाथ है। फुटपाथ के ऊपरी हिस्से पर सौर पैनल भी लगाए गए हैं, जिससे एक मेगावाट बिजली पैदा होती है। यह पुल परिवहन को आसान बनाएगा और द्वारका और बेट-द्वारका के बीच यात्रा करने वाले भक्तों के दर्शन में लगने वाले समय को काफी कम कर देगा। पुल के निर्माण से पहले, तीर्थयात्रियों को बेट द्वारका तक पहुंचने के लिए नाव परिवहन पर निर्भर रहना पड़ता था। यह प्रतिष्ठित पुल देवभूमि द्वारका का एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण भी होगा।

T20240225154628

प्रधानमंत्री ने दिन में पहले सुदर्शन सेतु के लोकार्पण का उल्लेख किया और 6 साल पहले इसकी आधारशिला रखने को भी याद किया। उन्होंने बताया कि पुल ओखा मुख्य भूमि और बेट द्वारका द्वीप को जोड़ेगा, जिससे द्वारकाधीश के दर्शन के लिए कनेक्टिविटी बढ़ेगी और क्षेत्र की दिव्यता का भी विस्‍तार होगा। उन परियोजनाओं का उद्घाटन करने के विश्वास का उल्‍लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘यह मोदी की गारंटी है।’’ सुदर्शन सेतु को इंजीनियरिंग का चमत्कार बताते हुए, प्रधानमंत्री ने उद्घाटन पर नागरिकों को शुभकामनाएं देते हुए इंजीनियरिंग वर्ग से पुल और इसकी तकनीकी विशेषताओं का विश्लेषण करने का आह्वान किया।

T20240225154639

बेट द्वारका के नागरिकों की कठिनाइयों का उल्‍लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यहां के निवासियों और श्रद्धालुओं को फेरी बोट पर निर्भर रहना पड़ता था और समुद्र में उच्‍च ज्‍वार आने पर फेरी बोट सेवा बंद हो जाती थी उस समय यहा के निवासियों और श्रद्धालुओं को बहुत परेशानी होती थी उन्‍हें लंबे सड़क मार्ग से यात्रा करनी पड़ती थी। उन्‍होंने कहा कि जब में मुख्‍यमंत्री था तो यहां के साथी मेरे पास आते थे और इस पुल के लिए अनुरोध करते थे। गुजरात के वर्तमान मुख्यमंत्री श्री भूपेन्द्र पटेल ने यह कार्य पूर्ण किया है प्रधानमंत्री ने श्री भूपेन्‍द्र पटेल की सराहना की।

T20240225154644

Latest News

खनन और खनिज प्रसंस्करण में अनुसंधान एवं नवाचार प्रोत्‍साहन के लिए खनन स्टार्ट-अप वेबिनार आयोजित खनन और खनिज प्रसंस्करण में अनुसंधान एवं नवाचार प्रोत्‍साहन के लिए खनन स्टार्ट-अप वेबिनार आयोजित
नई दिल्ली-भारत सरकार के खान मंत्रालय ने खनन और खनिज प्रसंस्करण में अनुसंधान एवं नवाचार को बढ़ावा देने के अवसरों...
ग्रीष्मकालीन बिजली की मांग को पूरा करने में सहायता के लिए सरकार ने गैस आधारित बिजली संयंत्रों को परिचालित करने के उपाय किए
इरेडा ने विरासत का उत्सव मनाया
केएबीआईएल और सीएसआईआर-आईएमएमटी ने महत्वपूर्ण खनिजों के शोध के लिए किया समझौता
सरकार ने राष्ट्रीय हरित हाइड्रोजन पहल के अंतर्गत अनुसंधान और विकास प्रस्ताव प्रस्तुत करने की समय सीमा बढ़ाई
आरईसीपीडीसीएल ने अंतरराज्यीय विद्युत पारेषण परियोजना के लिए एसपीवी सौंपे
भारतीय तटरक्षक ने बंगाल की खाड़ी में नौ घायल मछुआरों को बचाया
समुद्री डकैती विरोधी अभियानों के लिए आईएनएस शारदा को ऑन द स्पॉट यूनिट प्रशस्ति पत्र
पनबिजली क्षमता आज के 42 गीगावॉट से बढ़कर 2031-32 तक 67 गीगावॉट हो जाएगी
एसजेवीएन को 15वें सीआईडीसी विश्वकर्मा पुरस्कार 2024 से सम्मानित किया गया