प्रधानमंत्री ने 300 मेगावाट भुज-II सौर ऊर्जा परियोजना की रखी आधारशिला

 प्रधानमंत्री ने 300 मेगावाट भुज-II सौर ऊर्जा परियोजना की रखी आधारशिला

राजकोट-प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज गुजरात के राजकोट में 48,100 करोड़ रुपये से भी अधिक की कई विकास परियोजनाओं को राष्ट्र को समर्पित किया और इनकी आधारशिला रखी। इन परियोजनाओं में स्वास्थ्य, सड़क, रेल, ऊर्जा, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस और पर्यटन जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्र शामिल हैं।

क्षेत्र में नवीकरणीय ऊर्जा के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए एक कदम में, प्रधानमंत्री ने 300 मेगावाट भुज-II सौर ऊर्जा परियोजना सहित विभिन्न नवीकरणीय ऊर्जा परियोजनाओं जैसे ग्रिड कनेक्टेड 600 मेगावाट सौर पीवी विद्युत परियोजना; खावड़ा सौर ऊर्जा परियोजना; 200 मेगावाट की दयापुर-II पवन ऊर्जा परियोजना की आधारशिला रखी।

आज की 48,000 करोड़ रुपये से अधिक की विकास परियोजनाओं का उल्लेख करते हुए, प्रधानमंत्री ने गुजरात तट से हरियाणा के पानीपत में इंडियन ऑयल की रिफाइनरी तक कच्चे तेल के परिवहन के लिए शुरू की गई नई मुंद्रा-पानीपत पाइपलाइन का उल्लेख किया। उन्होंने सड़क, रेलवे, बिजली, स्वास्थ्य और शिक्षा से जुड़ी परियोजनाओं का भी जिक्र किया। प्रधानमंत्री ने राजकोट और सौराष्ट्र के लोगों को बधाई देते हुए कहा,“अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के उद्घाटन के बाद अब एम्स राजकोट राष्ट्र को समर्पित है।” उन्होंने उन सभी शहरों के नागरिकों को भी शुभकामनाएं दीं जहां आज एम्स का उद्घाटन किया जा रहा है।

T20240225154766

प्रधानमंत्री ने रेखांकित किया कि जब भारत के नागरिक सशक्त होते हैं तो विकसित भारत का मिशन मजबूत होता है। प्रधानमंत्री ने कहा,  "जब मोदी भारत को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी आर्थिक महाशक्ति बनाने की गारंटी देता है, तो इसका मतबल सभी के लिए स्वास्थ्य और सभी के लिए समृद्धि है।"

इस अवसर पर अन्य लोगों के अलावा गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल, केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ मनसुख मंडाविया और सांसद सी आर पाटिल उपस्थित थे।

Latest News

खनन और खनिज प्रसंस्करण में अनुसंधान एवं नवाचार प्रोत्‍साहन के लिए खनन स्टार्ट-अप वेबिनार आयोजित खनन और खनिज प्रसंस्करण में अनुसंधान एवं नवाचार प्रोत्‍साहन के लिए खनन स्टार्ट-अप वेबिनार आयोजित
नई दिल्ली-भारत सरकार के खान मंत्रालय ने खनन और खनिज प्रसंस्करण में अनुसंधान एवं नवाचार को बढ़ावा देने के अवसरों...
ग्रीष्मकालीन बिजली की मांग को पूरा करने में सहायता के लिए सरकार ने गैस आधारित बिजली संयंत्रों को परिचालित करने के उपाय किए
इरेडा ने विरासत का उत्सव मनाया
केएबीआईएल और सीएसआईआर-आईएमएमटी ने महत्वपूर्ण खनिजों के शोध के लिए किया समझौता
सरकार ने राष्ट्रीय हरित हाइड्रोजन पहल के अंतर्गत अनुसंधान और विकास प्रस्ताव प्रस्तुत करने की समय सीमा बढ़ाई
आरईसीपीडीसीएल ने अंतरराज्यीय विद्युत पारेषण परियोजना के लिए एसपीवी सौंपे
भारतीय तटरक्षक ने बंगाल की खाड़ी में नौ घायल मछुआरों को बचाया
समुद्री डकैती विरोधी अभियानों के लिए आईएनएस शारदा को ऑन द स्पॉट यूनिट प्रशस्ति पत्र
पनबिजली क्षमता आज के 42 गीगावॉट से बढ़कर 2031-32 तक 67 गीगावॉट हो जाएगी
एसजेवीएन को 15वें सीआईडीसी विश्वकर्मा पुरस्कार 2024 से सम्मानित किया गया