बाणसागर बाँध से सोन नदी में पहुंच रहा 6000 क्यूसेक पानी

प्रशासन से जारी की चेतावनी

बाणसागर बाँध से सोन नदी में पहुंच रहा 6000 क्यूसेक पानी

नई दिल्ली- सोन नदी में जल संग्रहण करने वाले मध्य प्रदेश के कई जनपदों में हो रही लगातार बारिश के कारण शहडोल स्थित बाणसागर बाँध का जलस्तर खतरे की ओर बढ़ने लगा है। पिछले 48 घंटे के दौरान मध्यप्रदेश के कई जिलों में अच्छी बारिश के कारण बाणसागर डैम का जलस्तर तेजी से बढ़ गया है। बाणसागर डैम में जलभराव के लगभग 80 फीसद तक पहुँचने के कारण जलविधुत की तीन इकाइयों को चालू कर दिया गया है। जल विद्युत इकाइयों के चलने से सोन नदी में होने वाले स्राव को देखते हुए बाणसागर प्रशासन ने तटवर्ती क्षेत्रों के लिए चेतावनी जारी कर दी है। इकाइयों के चलने से सोन नदी में 6000 क्यूसेक पानी पहुँचने लगा है। रविवार सुबह बाणसागर बाँध का जलस्तर  339.67 मीटर था, जो दोपहर 12 बजे तक  339.79 मीटर तक पहुँच गया था।बाणसागर पक्का बांध संभाग के कार्यपाल यंत्री पीके त्रिपाठी ने शहडोल,रीवा,सिंगरौली जनपदों के कलेक्टर सहित उत्तर प्रदेश जल संसाधन विभाग को सोन नदी में हो रहे जलस्राव के लिए सूचित कर दिया है। बताया कि बाँध पर स्थित देवलोंद विधुत घर की तीन इकाइयों को चालू कर दिया गया है।लगभग छह हजार क्यूसेक पानी की आमद को देखते हुए एमपी के साथ यूपी और बिहार में सोन नदी के तटवर्ती क्षेत्रों के लिए सतर्कता जैसी स्थिति पैदा हो गयी है।
 
तेजी से बढ़ रहा जलस्तर 
 
पिछले एक अगस्त से बाणसागर बाँध के जलस्तर में तेजी से वृद्धि जारी है । बीते एक अगस्त को जलस्तर 336.25 मीटर था जो छह अगस्त दोपहर तक 339.79 तक पहुँच गया। बाणसागर में जल संग्रहण करने वाले जनपदों में हो रही बारिश को देखते हुए जलस्तर नियंत्रण के लिए जल विद्युत इकाइयों को चालू कर दिया गया है। जिस गति से बाँध में पानी आ रहा है उससे संभावना है कि जल्द बाँध के फाटक भी खुल जाएँ।  बाणसागर के लिए जलसंग्रहण करने वाले मध्यप्रदेश के अनूपपुर,डिंडोरी,जबलपुर,कटनी,मंडला,सतना,शहडोल जनपदों में बारिश जारी है। 

Related Posts

Latest News

नरेन्द्र मोदी ने तीसरी बार प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली नरेन्द्र मोदी ने तीसरी बार प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली
नई दिल्ली-एनडीए के नेता नरेन्द्र मोदी ने आज राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक समारोह में लगातार तीसरी बार भारत के...
बिजली इंजीनियरों ने भीषण गर्मी को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की
तापीय विद्युत संयंत्रों में कोयले का भंडार 45 मीट्रिक टन से अधिक
अप्रैल 2024 में खनन क्षेत्र में वृद्धि
बीसीजीसीएल ने ओडिशा में कोयला गैसीकरण परियोजना के लिए निविदा जारी की
30 मई को 250 गीगावाट की रिकॉर्ड मांग को पूरा किया
ग्रेनाइट और संगमरमर खनन पर कार्यशाला
आरईसी ने 'सस्टेनेबिलिटी चैंपियन - एडिटर्स च्वाइस अवार्ड' जीता
पीएफसी को “सीएसआर चैंपियन अवार्ड”
एनटीपीसी ने नेशनल फिनाले पावर क्विज 2024 और मेधा प्रतियोगिता 2024 आयोजित की