कोयला खदानों में ड्रोन की संभावित तैनाती पर काम

कोयला खदानों में ड्रोन की संभावित तैनाती पर काम

नई दिल्ली-कोयला खदानों में डिजिटलीकरण में तेजी लाने के लिए एक उल्लेखनीय कदम के रूप में आईआईटी रूड़की के रोबोटिक्स शोधकर्ताओं की एक टीम ने छत्तीसगढ़ स्थित कोल इंडिया की सहायक कंपनी, साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड की ओपनकास्ट खदानों में परीक्षण किया। आईआईटी रूड़की की टीम वर्तमान में अपनी परियोजना "वास्तविक समय निगरानी, ​​​​खतरों और संवेदनशीलता मूल्यांकन हेतु ओपन कास्ट माइनफील्ड निगरानी के लिए लागू एक बुद्धिमान मानव रहित हवाई वाहन के डिजाइन और विकास" के तहत कोयले खदानों के लिए ड्रोन विकसित करने पर काम कर रही है।

इस परियोजना के तहत टीम ने ओपन कास्ट खदानों में स्टॉक माप से संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए एक ड्रोन विकसित करने पर काम करना आरंभ कर दिया है। विकसित होने के बाद ड्रोन किसी भी सर्वेक्षणकर्ता को खदान के किसी भी हिस्से में ड्रोन भेजकर कोयले के स्टॉक या ओवरबर्डेन को मापने में मदद करेगा। आई -हब फाउंडेशन फॉर कोबोटिक्स (आईएचएफसी) - आईआईटी दिल्ली का टेक्नोलॉजी इनोवेशन हब इस परियोजना के लिए वित्त पोषण एजेंसी के रूप में काम करेगा।

वर्तमान में, ओवरबर्डन और कोयला स्टॉक को मापने के लिए 3डी टीएलएस प्रौद्योगिकी का उपयोग किया जाता है, जिसकी अपनी कुछ सीमाएं हैं। ड्रोन के उपयोग से इस सीमा को दूर किया जा सकता है।

एसईसीएल की खदानें ड्रोन के परीक्षण और विकास के लिए ग्राउंड-ज़ीरो होंगी

एसईसीएल अनुसंधान टीम को कोयला खदानों पर तकनीकी विशेषज्ञता प्रदान करने में मदद करेगा ताकि उन्हें परियोजना के लिए महत्वपूर्ण डेटा मिल सके। रोबोटिक्स विशेषज्ञ प्रोफेसर डॉ. पुष्पराज मणि पाठक, पोस्ट-डॉक्टोरल शोधकर्ता डॉ. आशीष गुप्ता और स्नातकोत्तर के छात्र ज़ूनून अली शाबान की टीम ने हाल ही में हसदेव क्षेत्र के राजनगर कोयला खदान में ड्रोन से संबंधित परीक्षण किए और एसईसीएल का जमुना कोतमा क्षेत्र के अमादंड खदान का दौरा किया। टीम ने कोयला खदानों में ड्रोन तकनीक के उपयोग के लिए अपने संस्थान की प्रयोगशाला में विनिर्मित ड्रोन का भी सफल परीक्षण किया।

खदानों में उत्पादन, उत्पादकता, लॉजिस्टिक्स और सुरक्षा बढ़ाने के लिए ड्रोन का उपयोग

ड्रोन के उपयोग से खदानों में उत्पादन और उत्पादकता को बढ़ावा देने और महत्वपूर्ण लॉजिस्टिक्स सहायता प्रदान करने में मदद मिलेगी। ड्रोन के माध्यम से ढलानों की निगरानी और विस्फोट से खदानों के सुरक्षा पहलू में भी अत्यधिक सुधार किया जा सकता है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0024VRW.jpg

ड्रोन ओपन कास्ट खदानों में विस्फोट के दौरान उड़ने वाले चट्टानों और अन्य सामग्रियों की सटीक निगरानी करने में मदद कर सकते हैं ताकि दुर्घटनाओं को कम करने के लिए कदम उठाए जा सकें और इस मामले में गलत दावों से निपटा जा सके।

अगर किसी तरह की वस्तु फेस मशीनरी तक पहुंचानी है तो इसके लिए भी ड्रोन का इस्तेमाल किया जा सकता है। किसी दुर्घटना की स्थिति में, फेस पर काम करने वाले श्रमबल तक दवा या खाद्य वस्तुओं को भी पहुंचाया जा सकता है।

Latest News

 प्रधानमंत्री ने 300 मेगावाट भुज-II सौर ऊर्जा परियोजना की रखी आधारशिला प्रधानमंत्री ने 300 मेगावाट भुज-II सौर ऊर्जा परियोजना की रखी आधारशिला
राजकोट-प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज गुजरात के राजकोट में 48,100 करोड़ रुपये से भी अधिक की कई विकास परियोजनाओं को...
चौबीस घंटे नवीकरणीय ऊर्जा प्रदान करने के लिए बैटरी ऊर्जा भंडारण प्रणाली की तैनाती तंत्र को अंतिम रूप
देश का सबसे लंबा केबल-आधारित पुल राष्ट्र को समर्पित
एसईसीआई ने भारत की सबसे बड़ी सौर-बैटरी परियोजना को परिचालित किया
प्रधानमंत्री ने 1600 मेगावाट के सुपर थर्मल पॉवर स्टेशन स्टेज–वन को राष्ट्र को समर्पित किया
एनटीपीसी नवीकरणीय रिन्यूएबल एनर्जी लिमिटेड की पहली सौर परियोजना का परिचालन कार्य प्रारंभ हुआ
ग्रिड-इंडिया ने जीओ15 बैठक की मेजबानी की
एसजेवीएन ने उत्तर प्रदेश में 50 मेगावाट के गुजराई सौर ऊर्जा स्टेशन चालू किया
एनटीपीसी के 1,600 मेगावाट के लारा सुपर थर्मल पावर स्टेशन के प्रथम-चरण का होगा शुभारम्भ
प्रधानमंत्री करेंगे फर्स्ट माइल कनेक्टिविटी परियोजनाओं का उद्घाटन